Farz – Sayyid Akhtar Hussein Rizvi, known as Kaifi Azmi (कैफ़ी आज़मी), (14 January 1919 – 10 May 2002) was an Indian Urdu poet. He is remembered as the one who brought Urdu literature to Indian motion pictures. Together with Pirzada Qasim, Jon Elia and others, he participated in the most memorable mushairas of the twentieth century.

In the Kaifi Azmi poem ‘Farz‘ where comparing the partition time to Kurukshetra where Krishna pushes Arjuna to fight saying body is ephemeral and soul eternal etc etc, Azmi sahab, compares the natives to Arjuna who is being forced to battle his own brother reluctantly.

Read Also: Krishn Kanhaiya (कृष्ण कन्हैया) by Hafeez Jalandhari (हफ़ीज़ जालंधरी)

Farz (फर्ज) by Kaifi Azmi (कैफ़ी आज़मी)

और फिर कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा (Aur phir Krishna ne Arjun se kaha)
न कोई भाई न बेटा न भतीजा न गुरु (na koi bhai na beta na bhateeja na guru)
एक ही शक्‍ल उभरती है हर आईने में (ek hi shakal ubharti hai aine main)
आत्‍मा मरती नहीं जिस्‍म बदल लेती है (aatma marti nahi jism badal leti hai)
धड़कन इस सीने की जा छुपती है उस सीने में (dhadkan is seene ki jaa chupti hai us seene main)

जिस्‍म लेते हैं जनम जिस्‍म फ़ना होते हैं (jism lete hain janam jism fanaah hote hain)
और जो इक रोज़ फ़ना होगा वह पैदा होगा (aur jo ek roz fana hoga wah paida hoga)
इक कड़ी टूटती है दूसरी बन जाती है (ek kadi tut ti hai dusri bann jaati hai)
ख़त्‍म यह सिलसिल-ए-ज़ीस्‍त भला क्‍या होगा (khatam yah silsila-e-zeest bhala kya hoga)

रिश्‍ते सौ, जज्‍बे भी सौ, चेहरे भी सौ होते हैं (rishte so, jazbe bhi so, chehre bhi so hote hain)
फ़र्ज़ सौ चेहरों में शक्‍ल अपनी ही पहचानता है (farz so chehron main shakal apni hi pehchanta hai)
वही महबूब वही दोस्‍त वही एक अज़ीज़ (wahi mehboob wahi dost wahi ek azeej)
दिल जिसे इश्‍क़ और इदराक अमल मानता है (dil jisse ishq aur idraak amal maanta hai)

ज़िन्‍दगी सिर्फ़ अमल सिर्फ़ अमल सिर्फ़ अमल (zindagi sirf amal sirf amal sirf amal)
और यह बेदर्द अमल सुलह भी है जंग भी है (aur yah bedard amal sulah bhi hai jang bhi hai)
अम्‍न की मोहनी तस्‍वीर में हैं जितने रंग (aman ki mohni tasveer main hai jitne rang)
उन्‍हीं रंगों में छुपा खून का इक रंग भी है (unhi rangon main chupa khoon ka ik rang bhi hai)

जंग रहमत है कि लानत, यह सवाल अब न उठा (jang rehmat hai ki laanat, yah sawaal ab na utha)
जंग जब आ ही गयी सर पे तो रहमत होगी (jang jab aa hi gayi sar pe to rehmat hogi)
दूर से देख न भड़के हुए शोलों का जलाल (dur se dekh na bhadke hue sholon ka jalaal)
इसी दोज़ख़ के किसी कोने में जन्‍नत होगी (issi dojakh ke kisi kone main jannat hogi)

ज़ख़्म खा, ज़ख़्म लगा ज़ख़्म हैं किस गिनती में (jakhm kha, jhakm laga jakhm hai kis ginti main)
फ़र्ज़ ज़ख़्मों को भी चुन लेता है फूलों की तरह (farz jakhmon ko bhi chun leta hai phoolon ki tarah)
न कोई रंज न राहत न सिले की परवा (na koi ranj na rahat na sile ki parwa)
पाक हर गर्द से रख दिल को रसूलों की तरह (paak har gard se rakh dil ko rasoolon ki tarah)

ख़ौफ़ के रूप कई होते हैं अन्‍दाज़ कई (khof ke roop kai hote hain andaaz kai)
प्‍यार समझा है जिसे खौफ़ है वह प्‍यार नहीं (pyar samjha hai jisse khof hai wah pyar nahi)
उंगलियां और गड़ा और पकड़ और पकड़ (ungliyan aur gada aur pakad aur pakad)
आज महबूब का बाजू है यह तलवार नहीं (aaj mehboob ka baaju hai yah talwar nahi)

साथियों दोस्‍तों हम आज के अर्जुन ही तो हैं। (saathiyon doston hum aaj ke arjun hi to hain)

Read Also: Summary of the Bhagavad Gita

I hope you liked Farz poem, which was written by Kaifi Azmi. I really appreciate if you help me to improve my work. Please share your views and suggestions in comments.

Read Also: How to create a Free Blog on Blogger

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.